Loading...

  • Wednesday July 06,2022

गहलोत सरकार ने लेकसिटी की एक बड़ी सड़क को दी मंजूरी,पहले बंटेगा मुआवजा

मुकेश हिंगड़
राज्य की गहलोत सरकार ने लेकसिटी की एक बड़ी सड़क को मंजूरी दी है। इस बरसों से इस सड़क की मांग चल रही थी और अब मंजूरी आ गई है। अब यूआइटी उदयपुर को इसके मुआवजे बांटने से लेकर सड़क बनाने का काम करना होगा।

लेकसिटी के फतहपुरा चौराहा से गोगुंदा-पिंडवाड़ा हाइवे तक जाने वाले रूट पर बडग़ांव से गुजरना मुश्किल भरा काम है लेकिन, अब वहां 60 फीट सडक़ बनाने का सपना साकार होने वाला है। नगर विकास प्रन्यास (यूआइटी) के प्रस्ताव को नगरीय विकास विभाग (यूडीएच) ने मंजूर करते हुए इस सडक़ की सैद्वांतिक स्वीकृति दे दी है। आदेश यूआइटी को मिल गया है। यूडीएच से निकले आदेश में सरकार ने यूआइटी सचिव से कहा कि राजस्व ग्राम बडग़ांव की मुख्य सडक़ को 60 फीट चौड़ा करने की सहमति सशर्त दी। इसमें आपसी समझौते से प्रभावित व्यक्तियों की भूमि/भवन प्राप्त करने के बदले मुआवजा भुगतान की स्वीकृति, सडक़ के लिए ली जाने वाली भूमि के सही एवं बेहतर दावेदार के स्वामित्व की जांच न्यास स्तर पर पूरी की जाए।

कही 30 तो कही 40 अब होगी 60 फीट सडक़

इस रूट पर सडक़ कहीं 30 तो कहीं 40 फीट है। ऐसे में सडक़ को 60 फीट बनाने के लिए जिनती जरूरत थी जिसका प्रस्ताव बनाकर भिजवाया गया और स्वीकृत हो गया। इस सडक़ पर आए दिन जाम लगता है और ऐसे में कई लोग इस सुगम रास्ते की बजाय अम्बेरी या मदार नहर के सहारे वाली रोड से पिंडवाड़ा हाइवे पकड़ते है। बडग़ांव के लोग भी इस रोड को चौड़ा करने की मांग कर रहे थे। वैसे बडग़ांव से चिकलवास जाने वाली मुख्य सडक़ जो मास्टर प्लान के अनुसार सडक़ का मार्गाधिकार 100 फीट अनुमत है। यूआइटी ने मुआवजे की फाइल पिछले दिनों जयपुर सरकार को भेजी थी जिसमें 124 लोग आ रहे थे और उनका करीब 5.28 करोड़ रुपए का मुआवजा बना था। सडक़ निर्माण के लिए यूआइटी ने बजट में 2 करोड़ तो अवाप्ति के लिए 5 करोड़ रुपए का प्रावधान भी कर रखा है।

Read More

0 Comments