फलासिया का हर्ष हत्याकांड रीट में पास करवाने ठगे पैसों का तकाजा करने पर हुई हत्या, मुख्य आरोपी संजय परमार आया पकड़ में, दो की गिरफ्तारी बाकी

झाड़ोल(फ.)उदयपुर जिले के फलासिया थाना क्षेत्र के आमलिया गांव में हर्ष कलाल की नृशंस हत्या के मामले का पुलिस ने गुरूवार को खुलासा करते हुए मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। हत्या के पीछे मुख्य कारण रीट परीक्षा में पास करवाने के नाम पर क्षेत्र के एक दर्जन से ज्यादा युवाओं से वसूले गए लाखों रूपयों का तकाजा सामने आया है। मृतक की आरोपी की बहन से मेलजोल भी आरोपी को पसंद नहीं था। फिलहाल दो आरोपी पुलिस पकड़ से दूर है। 
एसपी मनोज चौधरी ने बताया कि मुख्य आरोपी संजय परमार कोचिंग सेंटर संचालक था और मृतक उसके वहां पर छात्रों को कोचिंग करवाता था। इसी दौरान रीट परीक्षा से पहले संजय ने कई छात्रों को अपनी पहुंच के चलते सलेक्शन करवाने की बात कहते हुए डेढ़ से ढाई लाख रूपए प्रति छात्र वसूल किए। हर्ष के स्थानीय होने के चलते छात्रों से राशि हर्ष के माध्यम से ली गई थी। रीट का दीपावली से पूर्व रिजल्ट आने के बाद से ही छात्रों का चयन नहीं होने पर उन्होंने तकाजा हर्ष से करना शुरू कर दिया और हर्ष मुख्य आरोपी से तकाजा करता रहा। इसी के चलते रूपए वापस नहीं लौटाने पड़े, ऐसे में हर्ष की हत्या कर दी गई। 
इसके साथ ही एक दूसरा कारण ये भी था कि मुख्य आरोपी को इस बात का संदेह था कि हर्ष और उसकी बहन के बीच प्रेमप्रसंग चल रहा है। इसी कारण  आरोपी ने पंद्रह दिन पूर्व दीपावली से पहले ही हत्या की योजना बना ली थी। हत्या के लिए पुष्कर और दिनेश के साथ उसने हर्ष को पार्टी के नाम पर बुलाया और उसके बाद शराब की बोटल और पत्थर मारकर हत्या कर दी। इस एवज में आरोप संजय ने दोनों दोस्तों को 50 हजार रूपए सुपारी के ​रूप में भी दिए।
पुलिस जांच में सामने आया कि मुख्य आरोपी संजय परमार विगत दो-तीन वर्षों से फलासिया एवं मादडी क्षेत्र में कोचिंग क्लासेज संचालित कर रहा था। मृतक हर्ष कलाल संजय परमार के कोचिंग संस्थान रघुनंदन क्लासेज में प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए पढ़ाने का कार्य करता था। हर्ष कलाल ने कोचिंग के साथ-साथ संजय परमार के कहने पर आसपास के क्षेत्र के नवयुवको को रीट की परीक्षा में पास करवाने तथा एसटीसी की डिग्री दिलवाने के नाम पर एक दर्जन से ज्यादा युवक-युवतियों से प्रति छात्र डेढ़ से ढाई लाख रूपए लेते हुए संजय परमार को दे दी। दीपावली से पूर्व रिट का रिजल्ट आ जाने पर छात्रों को अपने साथ हुई ठगी का अहसास हो गया और उन्होंने हर्ष से तकाजा करना शुरू कर दिया। लगातार राशि का तकाजा करने पर हर्ष ने संजय से बात करते हुए एक-दो युवक-युवतियों को राशि पुन: भी लौटाई थी। इसी बात को लेकर हर्ष कलाल एवं संजय परमार के मध्य राशि लौटाने को लेकर आपसी खींचतान चल रही थी। सबसे बडी बात ये थी कि छात्रों से वसूली गई राशि बहुत ज्यादा होने व काफी पैसा संजय परमार द्वारा खर्च कर दिए जाने से उसके पास लौटाने का कोई रास्ता नहीं था। 
वहीं गुरूवार दोपहर पुलिस ने परिजनों व समाजजनों को मामले में मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिए जाने की जानकारी दी जिसके बाद परिजनों सहित समाजजनों ने पुलिस का आभार व्यक्त किया। परिजनों ने इस मामले में शेष दोनों सह आरोपियों को भी गिरफ्तार करने के साथ ही फलासिया थाने में सीआई स्तर का अधिकारी नियुक्त करने की मांग की। आरोपी की गिरफ्तारी के बाद परिजनों की सहमति से पुलिस ने शव का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव परिजनों को सुपूर्द कर दिया जिसका दोपहर बाद अंतिम संस्कार कर दिया गया।
तीन बहनों के इकलौते भाई था, 6 महिनों बाद थी शादी
मृतक के रिश्तेदारों ने बताया कि तीन बहनों का इकलौता भाई हर्ष कलाल मादड़ी में संजय परमार के कोचिंग सेंटर पर एसटीसी के छात्रों को पढ़ाता था। गत माह हुई रीट परीक्षा देने के बाद हर्ष घर पर ही था। हर्ष की कुछ महिनों पूर्व ही सामाजिक रीति रिवाज से उसकी सगाई हुई और 6 महीनों बाद शादी होनी थी।  हर्ष की शादी को लेकर तीनों बहनों सहित पूरा परिवार खुश था।

0 Comments