*बाड़मेर का हाईवे अब लड़ाकू विमानों का रण" वे* राजनाथ सिंह व नितिन गडकरी ने किया उद्घाटन बाड़मेर

बाडमेर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, सड़क व परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, एयर चीफ मार्शल आर.के.एस. भदौरिया और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत जालौर में राष्ट्रीय राजमार्ग पर इमरजेंसी लैंडिंग फिल्ड के उद्घाटन के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए।देश की पश्चिमी सरहद पर पाकिस्तान से लगते बॉर्डर के पास में भारतमला परियोजना के तहत बनाए जा रहे नेशनल हाईवे पर सड़क एवं परिवहन विभाग की ओर से 3 किलोमीटर लंबी इमरजेंसी हवाई पट्टी का निर्माण करवाया गया है, जहां पर आपातकाल के दौरान वायुसेना के लड़ाकू विमान आसानी से लैंडिंग कर सकते हैं, जिसका आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, जल संसाधन मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत (Gajendra Singh Shekhawat), सीडीएस विपिन रावत (Bipin Rawat), वायु सेना अध्यक्ष ने भारतीय वायु सेना के विमान सी 130 की हाईवे पर सफल लैंडिंग कर लोकार्पण किया, जिसके बाद में वायु सेना के लड़ाकू विमान सुखोई जगुआर सहित ट्रांसपोर्टेशन विमानों ने अभ्यास कर करतब दिखाए. 

युद्धाभ्यास देखकर चौड़ा हो गया सबका सीना
पश्चिमी सीमा पर वायु सेना के इस युद्धाभ्यास को देखकर हर किसी का सीना चौड़ा हो गया. इस दौरान सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने वायु सैनिकों को संबोधित करते हुए कहा कि इस हवाई पट्टी से भारतीय वायु सेना की क्षमता बढ़ेगी और लगातार सड़क एवं परिवहन मंत्रालय भारतीय सेनाओं की क्षमता बढ़ाने के उद्देश्य से लगातार काम कर रहा है और उसी के तहत भारत माला प्रोजेक्ट के तहत देश की सीमाओं पर सैन्य गतिविधियों की आवाजाही के लिए सुगम करने के लिए हाईवे का निर्माण लगातार करवाया जा रहा है. 
कार्यक्रम के दौरान नितिन गडकरी ने कहा कि यह देश की सबसे बेहतर एयर स्ट्रिप है. उन्होंने आस-पास एयरपोर्ट की कमी को देखते हुए बोले कि 350 KM की रेंज में एयरपोर्ट नही है मंच से उन्होंने एयरफोर्स अधिकारियों को इसका प्रोजेक्ट बनाने की बात कहीं. साथ ही बताया कि इसे एयरफोर्स के साथ ही सिविल उपयोग में लिया जाएगा. उन्होंने दिल्ली से जयपुर के बीच इलेक्ट्रिक हाइवे प्रोजेक्ट लाने की भी बात कही.
क्या बोले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 
राजनाथ सिंह ने एयरफोर्स अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि युद्ध के साथ प्राकृतिक आपदाओं में भी यह एयर स्ट्रिप काम आएगी. अब तक भारत दूसरे देशों से हथियार और अन्य सामग्री इंपोर्ट करता था, लेकिन अब यह निर्णय लिया गया है कि डेढ़ दशक में भारत एक्सपोर्टिंग कंट्री के रूप में अपनी पहचान बनाएगा. कार्यक्रम में उन्होंने सुखोई और जगुआर कैप्टन को बधाई भी दी. इस दौरान राजनाथ सिंह ने कहा कि सड़क एवं परिवहन मंत्रालय द्वारा देश के 550 जिलों को भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत जोड़ा गया है जिसके लिए सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी बधाई के पात्र है.पश्चिमी अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर सुरक्षा तंत्र को मजबूती मिलेगी
पाकिस्तान बॉर्डर से महज 40 किमी दूर देश की पहली एयर स्ट्रिप पर सुखोई, मिग, जगुआर और हरक्यूलिस विमानों का ट्रायल भी किया जाएगा. अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर ताराबंदी के नजदीक पहला टच एंड गो ऑपरेशन होगा. इससे पहले बुधवार को यहां करीब 3 घंटे तक रिहर्सल की गई. सबसे पहले इस एयर स्ट्रिप पर हरक्यूलिस विमान को उतारा गया. भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत बाड़मेर-जालोर की सीमा पर देश की पहली इमरजेंसी एयर स्ट्रिप तैयार की गई है. इस एमरजेंसी लैंडिंग स्ट्रिप के अलावा एयरफोर्स और इंडियन फोर्स की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए कुंदनपुरा, सिंघानिया और भाखासर गांवों में 100X30 मीटर आकार के तीन हेलीपैड भी बनाए गए हैं. इस निर्माण से इंडियन फोर्स और देश की पश्चिमी अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर सुरक्षा तंत्र को मजबूती मिलेगी.

0 Comments