Loading...

  • Monday January 24,2022

तालिबान ने अफगानिस्तान में पनपी अराजकता के लिए अशरफ गनी को दोषी ठहराया, कहा- देश के पैसे वापस लौटाने चाहिए

नई दिल्ली। तालिबान (Taliban) के प्रवक्ता सोहेल शाहीन (Suhail Shaheen) ने 15 अगस्त के बाद देश में देखी गई अराजकता के लिए अशरफ गनी को दोषी ठहराया है। शाहीन ने कहा कि अचानक सरकार को छोड़कर उन्होंने गलती की। मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में प्रवक्ता ने कहा कि 15 अगस्त को जब तालिबान 'सत्ता के शांतिपूर्ण हस्तांतरण का इंतजार कर रहा था' और लड़ाके काबुल के गेट के बाहर इंतजार कर रहे थे, अशरफ गनी अचानक भाग गए। उसने सरकार को छोड़ने की गलती की।'

अशरफ गनी के भारी मात्रा में नकदी के साथ भागने की खबरों पर सोहेल शाहीन ने कहा कि अगर उन्होंने ऐसा कुछ भी किया है जो उनका नहीं है, तो उन्हें उसे अफगानिस्तान को लौटा देना चाहिए, लेकिन उसे आगे बढ़ाना तालिबान की प्राथमिकता नहीं है क्योंकि यह समूह अब नई सरकार की स्थापना पर ध्यान केंद्रित कर रहा है।

ये भी पढ़ें: Taliban के वरिष्ठ नेता ने भारत को बताया अहम सहयोगी, कहा-पहले की तरह आर्थिक और राजनीतिक रिश्ते कायम रहेंगे

दूसरी ओर अशरफ गनी ने दोनों के देश से भागने और पैसे लेकर भागने की खबरों का खंडन किया। यूएई से उन्होंने संदेश देते हुए कहा कि खून खराबे से बचने के लिए उन्हें देश छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा। उनके पास अपनी चप्पल बदलने का समय भी नहीं था, उन्होंने कहा कि इतना सारा पैसा ले जाने का सवाल ही नहीं उठना चाहिए।

यूएई के साथ घनिष्ठ संबंध

यूएई के साथ आगे संबंधों पर जिसने अशरफ गनी और उनके परिवार का स्वागत किया है, उस पर तालिबान के प्रवक्ता का कहना है कि अशरफ गनी के यूएई के साथ घनिष्ठ संबंध थे। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यूएई के तालिबान से संबंध नहीं होंगे। कतर में हमारा कार्यालय है। संयुक्त अरब अमीरात के साथ हमारे संबंध हैं। अशरफ गनी को आश्रय देना उनकी नीति को दर्शाता है। प्रवक्ता ने कहा, इसका मतलब यह नहीं है कि उनका हमारे साथ कोई संबंध नहीं है।

काबुल ब्लास्ट (Kabul Blast) को लेकर प्रवक्ता ने कहा कि धमाके से पहले तालिबान देश के सभी अफगानियों और सभी कारों को खोज रहे थे। उनके पास रिपोर्ट थी कि आईएसआईएस के सदस्य लोगों की भीड़ के साथ हवाई अड्डे के अंदर जाने की कोशिश कर सकते हैं। उन्होंने कहा, जिन अफगानियों के पास उचित यात्रा दस्तावेज नहीं हैं, उन्हें सुरक्षा कारणों की वजह से हवाई अड्डे की यात्रा करने से रोक दिया गया था।

Read More

0 Comments