Loading...

  • Monday January 24,2022

तालिबान का भारत को लेकर बड़ा बयान, जैश और लश्कर जैसे आतंकी संगठनों को भी दिया झटका

नई दिल्ली। तालिबान ( Taliban ) भले ही अफगानिस्तान ( Afghanistan ) पर तख्ता पलट के बाद अमरीका समेत कई देशों को चेतावनी दे रहा है, लेकिन भारत को लेकर उसकी सोच अलग है। तालिबान के नेता और विदेश मंत्री की रेस में सबसे आगे चल रहे शेर मोहम्मद अब्बास स्टानिकजई ( Sher Mohammad Stanikzai ) ने कहा है कि हम भारत ( India ) के दुश्मन नहीं है। बल्कि भारत के साथ हम अच्छे रिश्ते चाहते हैं।

स्टानिकजई ने कहा भारत-पाकिस्तान को लेकर भी बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा तालिबान भारत और पाकिस्‍तान में से किसी का पक्ष नहीं लेगा।

यह भी पढ़ेंः Kabul Blast के बाद अमरीकी सेना की एयर स्ट्राइक, अफगानिस्तान में ISIS के ठिकानों पर किए हमले

लश्कर और जैश को भी झटका
शेर मोहम्मद ने कहा कि तालिबान भारत के साथ अच्‍छे रिश्‍ते बनाना चाहता है। उन्होंने लश्कर औ जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकी संगठनों को लेकर भी बड़ी बात कही। स्टानिकजई ने कहा कि, तालिबान लश्‍कर या जैश आतंकियों को अफगान जमीन का इस्‍तेमाल भारत के खिलाफ नहीं होने देंगे।

पड़ोसियों को साथ अच्छे रिश्ते की नीति
शेर मोहम्‍मद ने भारत के साथ संबंधों पर कहा, 'हमारी विदेश नीति सभी पड़ोसी देशों और दुनिया के साथ अच्‍छे रिश्‍ते बनाना है।

हम अमरीका और नाटो के साथ भी अच्छे संबंध बनाना चाहते हैं। हम भारत के साथ सांस्‍कृतिक और आर्थिक रिश्‍ते बरकरार रखना चाहते हैं।'

यह पूछे जाने पर कि तालिबान पाकिस्‍तान के साथ मिलकर भारत के खिलाफ शत्रुतापूर्ण व्‍यवहार करेगा, ऐसी लोगों में आशंका है, इस पर शेर मोहम्‍मद ने कहा, 'जो मीडिया में आता है, वह अक्‍सर गलत होता है।

यह भी पढ़ेंः ऐसे तैयार हुआ आतंकी ISIS Khorasan group, फिर कर सकता है काबुल एयरपोर्ट पर हमला, US ने जारी किया अलर्ट

सिर्फ भारत अफगानिस्तान के हित में सोचता है
वहीं एक अन्य तालिबानी नेता मौलवी जियाउल हक्कमल ने भी निजी चैनल से बातचीत में कहा है कि तालिबान के कम से कम एक बड़े और प्रभावशाली धड़े को इस बात का एहसास है कि भारत ने अफगानिस्तान में कई विकास कार्य यूंही नहीं किए और शायद एक भारत ही ऐसा मुल्क है जो अफगानिस्तान के हित में इमानदारी से सोचता है।

Read More

0 Comments