पहली बार किसी महिला पत्रकार ने तालिबान का लिया था इंटरव्यू, कुछ ही दिन बाद छोडऩा पड़ा अफगानिस्तान

नई दिल्ली।

तालिबान के सत्ता में आने के बाद अब अफगानिस्तान में रूके लोगों को डर सताने लगा है। अफगानिस्तान की सत्ता पर काबिज होने के बाद तालिबान ने यह आश्वस्त किया था कि इस बार वह बदल गया है। इसको लेकर तालिबान ने टोलो न्यूज की महिला पत्रकार को पहला इंटरव्यू भी दिया था। इसके बाद भारत समेत दुनियाभर में कई कथित लिबरल लोगों ने इसकी तारीफ की और अफगानिस्तान में बदले हुए तालिबान की सत्ता का स्वागत किया था।

खुद महिला पत्रकार जिसने तालिबानी प्रवक्ता का इंटरव्यू लिया था, उसने भी अफगानिस्तान में तब खुद को सुरक्षित बताया था। मगर कुछ ही दिनों बाद उन महिला पत्रकार का भ्रम दूर हो गया। अब उन्होंने तालिबान के डर से अफगानिस्तान छोड़ दिया है। महिला पत्रकार के मुताबिक, तालिबान अब भी आतंकी संगठन है और उसमें कोई बदलाव नहीं आया है।

बतौर पत्रकार बेहेस्ता अरघंड अपने करियर के शिखर पर हैं, मगर अब अफगानिस्तान में तालिबान की सत्ता आने के बाद से उन्हें बतौर पत्रकार डर लगने लगा था। तालिबान के सत्ता में आने के बाद से पत्रकारों और नागरिकों के सामने आने वाले खतरों का हवाला देते हुए बेहेस्ता अरघंड ने देश छोड़ दिया है। सीएनएन के साथ इंटरव्यू में उन्होंने कहा, मैंने देश छोड़ दिया है, क्योंकि लाखों लोगों की तरह मुझे भी तालिबान से डर लग रहा था।

behesta.jpeg

हालांकि, इंटरव्यू में पत्रकार बेहेस्ता अरघंड ने कहा, अगर तालिबान जो कह रहा है वह वही करेगा और अगर स्थिति बेहतर होती है। मुझे लगेगा कि मैं वहां सुरक्षित हूं और मेरे लिए कोई खतरा नहीं है, तो मैं अपने देश वापस जाउंगी और अपने देश और लोगों के लिए काम करूंगी।

यह भी पढ़ें:- तालिबान के चंगुल से बचकर निकली महिला का बेहद घिनौना और चौंकाने वाला खुलासा- वे तो लाशों के साथ भी करते हैं सेक्स

टोलो न्यूज के मालिक मोहसेनी ने कहा, हमारे लगभग सभी जाने-माने पत्रकार चले गए हैं। हम उन्हें नए लोगों के साथ बदलने के लिए पागलों की तरह काम कर रहे हैं। हमारे पास लोगों को बाहर निकालने और ऑपरेशन को जारी रखने की दोहरी चुनौती है।

Read More

0 Comments