Loading...

  • Wednesday July 06,2022

नदी में मगरमच्छ की मौत, कलेक्ट्री पर ग्रामीणों का प्रदर्शन, जिंक के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग

Snow

चित्तौड़गढ़। समीपस्थ गांव नगरी के समीप हिन्दुस्तान जिंक के कारखाने के पास से गुजरने वाली बेड़च नदी में सयंत्र द्वारा छोड़ा जाने वाले केमिकल युक्त पानी से जलीय जीव की मौतों का सिलसिला शुरु हो गया है। नदी में सैकड़ों मछलियां मर रही थी वहीं अब नदी में स्वच्छन्द करने वाले मगरमच्छ की जान पर भी बन आई है।आज नदी में मृत मछलियों के साथ एक मृत मगरमच्छ भी नदी के किनारे पाया गया। नदी में मगरमच्छ के मरने की सूचना पर नगरी, आंवलहेड़ा और आस-पास के ग्रामीण क्षेत्रों के लोग ग्रामीण मंडल अध्यक्ष भंवर सिंह खरड़ी बावड़ी के नेतृत्व में नदी के तट पर पहुंचे जहां पर मृत मगरमच्छ को बाहर निकालकर सूचना वन विभाग को दी गई। ग्रामीणों ने बताया कि जिंक से निकलने वाले प्रदूषित केमिकलयुक्त पानी से जहां कुओं का पानी भी जहरीला हो गया है जिससे फसलें तो चौपट हो रही वहीं अब जलीय जीव मछलियां और मगरमच्छ भी मरने लगे है।आक्रोशित ग्रामीणों ने मृत मगरमच्छ को लेकर कलेक्ट्रेट के सामने प्रदर्शन कर जिंक द्वारा छोड़े जा रहे केमिकल युक्त पानी से नगरी, आंवलहेड़ा के ग्रामीणों ने फसलों को बचाने और जलीय जीव जन्तुओं को बचाने की प्रशासन से मांग की है। इधर कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों की सूचना पर वन विभाग की टीम भी मौके पर पहुंची और मगरमच्छ को कब्जे में लेकर उसे वन विभाग कार्यालय ले गये जहां पर उसका पोस्टमार्टम किया जायेगा।

0 Comments