Loading...

  • Wednesday August 17,2022

एथलीट पर 5 साल में 4.09 करोड़ रु. खर्च किए, दुती बोलीं- यह सही तस्वीर नहीं, प्राइज मनी को ट्रेनिंग के लिए मदद नहीं मानना चाहिए

ओडिशा सरकार ने गुरुवार को खुलासा किया कि उसने 2015 से अब तक एथलीट दुती चंद को 4.09 करोड़ रुपए की आर्थिक मदद दी है। हालांकि, दुती ने कहा कि सरकार सही तस्वीर नहीं पेश कर रही। उन्होंने कहा कि प्राइज मनी के तौर पर मिले पैसे को ट्रेनिंग के लिए मदद नहीं माना जाना चाहिए।

दुती को 2018 एशियन गेम्स में दो सिल्वर मेडल जीतने पर ओडिशा सरकार ने3 करोड़ रुपए इनाम के तौर पर दिए थे।

दुती ने फेसबुक पर कार बेचने की पोस्ट शेयर की थी

ओडिशा सरकार का यह बयान दुती द्वारा कार बेचने के विवाद पर दी गई सफाई के एक दिन बाद आया। दुती ने हाल ही में अपने फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट किया था कि वह टोक्यो ओलिंपिक की तैयारियों के लिए अपनी बीएमडब्ल्यू कार बेच रही हैं। इस पर विवाद बढ़ने पर उन्होंने फेसबुक से पोस्ट हटा ली थी।

दुती ने सफाई में कहा था- मैं मेंटेनेंस की वजह से कार बेचना चाहती

मामले के तूल पकड़ने के बादउन्होंने सफाई में कहा था कि मैं ट्रेनिंग की फंडिंग के लिए नहीं, बल्कि बीएमडब्ल्यू के मेंटेनेंस पर ज्यादा पैसे खर्च होने की वजह से इसे बेचना चाहती हूं।

सरकार ने कहा- 4 साल में दुती की ट्रेनिंग पर 30 लाख खर्च किए
ओडिशा के खेल मंत्रालय ने गुरुवार को जो बयान जारी किया है, उसके मुताबिक दुती को अकेले तीन करोड़ रुपए 2018 एशियन गेम्स में मेडल जीतने पर दिए गए थे। इसके अलावा 2015-19 तक 30 लाख रुपए ट्रेनिंग और टोक्यो ओलिंपिक की तैयारियों के लिए दो किश्तों में 50 लाख रुपए दिए गए थे।

मैं हमेशा ओडिशा सरकार की कर्जदार रहूंगी: दुती

सरकार के खुलासे पर दुती ने कहा कि पिछले कुछ सालों में ओडिशा सरकार ने मेरी बहुत मदद की है। मैं हमेशा उनकी कर्जदार रहूंगी, लेकिन सरकार ने 4 करोड़ की आर्थिक मदद की जो बात कही है, वह सही नहीं है।

प्राइज मनी को ट्रेनिंग के लिए मदद के तौर पर नहीं देखना चाहिए

उन्होंने आगे कहा कि 2018 एशियन गेम्स में दो सिल्वर मेडल जीतने पर मुझे ओडिशा सरकार नेतीन करोड़ रुपए बतौर इनाम दिए थे। यह वैसा ही जैसा पीवी सिंधु या किसी और मेडल जीतने वाले खिलाड़ी को उनकी सरकार इनाम के तौर पर देती है। प्राइज मनी को ट्रेनिंग के लिए आर्थिक मदद के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए।

ओएमसी ने दुती की ट्रेनिंग पर 29 लाख रुपए खर्च किए: ओडिशा सरकार

इतना ही नहीं, ओडिशा सरकार ने यह भी कहा कि दुती ओडिशा खनन निगम (ओएमसी) में ग्रुप-ए लेवल के ऑफिसर के तौर पर नौकरी कर रही हैं। ओएमसी ने भी दुती को ट्रेनिंग और इंसेंटिव के नाम पर 29 लाख रुपए दिए हैं। हालांकि, दुती ने सरकार के इस दावे पर आपत्ति जताते हुए कहा कि इसमें उनकी सैलरी भी शामिल है।

मुझे सैलरी के तौर पर 29 लाख रुपए मिले: दुती

इस एथलीट ने कहा कि यह 29 लाख रुपए मेरी सैलरी में शामिल है। मुझे नहीं पता कि यह ट्रेनिंग के लिए कैसे है। मैं ओएमसी की कर्मचारी हूं और इस नाते मुझे सैलरी मिलती है। सरकार के मुताबिक, 24 साल की इस एथलीट को ओएमसी से हर महीने ग्रॉस सैलरी के रूप में 84,604 रुपए मिलते हैं, जबकि दुती ने बुधवार को कहा था कि उन्हें 60 हजार रुपए ही मिलते हैं।

खेल और वित्त मंत्री ने दुती को मदद का भरोसा दिलाया

इस बीच, उन्होंने साफ कर दिया है कि वे अब अपनी कार नहीं बेचेंगी,क्योंकि केआईआईटी फाउंडर और सांसद अच्यूता सामंता ने उन्हें मदद का भरोसा दिलाया है। वहीं, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और खेल मंत्री किरन रिजिजू ने भी फोन पर हर तरह की मदद देने की बात कही है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
एथलीट दुती चंद को 2018 एशियन गेम्स में दो सिल्वर मेडल जीतने पर ओडिशा सरकार ने 3 करोड़ रुपए इनाम के तौर पर दिए थे। -फाइल
Read More

0 Comments