किसी भी काम में ईमानदारी और कड़ी मेहनत से सफलता जरूर मिलती है, देर होने से निराश नहीं होना चाहिए, आगे बढ़ते रहें

जो लोग ईमानदारी से कड़ी मेहनत करते हैं, उन्हें देर से ही सही, लेकिन सफलता जरूर मिलती है। इसीलिए देर होने से निराश नहीं होना चाहिए। इस संबंध में एक लोक कथा प्रचलित है।

प्रचलित कथा के अनुसार किसी राज्य के राजा की कोई संतान नहीं थी। राज्य संपन्न था, किसी चीज की कोई कमी नहीं थी, लेकिन राजा अपने उत्तराधिकारी को लेकर परेशान रहता था। राजा वृद्ध हो गया था। उत्तराधिकारी के विषय में राजा को चिंतित देखकर मंत्रियों ने कहा कि राज्य के किसी योग्य व्यक्ति को भावी राजा नियुक्त कर देना चाहिए।

मंत्रियों की सलाह राजा को सही लगी। उसने अपने राज्य के सभी बच्चों को बुलवाया और सभी को एक-एक बीज दिया। राजा ने कहा कि इस बीज को अपने घर में किसी गमले में लगाएं और 6 माह इसकी देखभाल करें। जिस बच्चे का पौधा सबसे अच्छा रहेगा, उसे हम राजकुमार घोषित करेंगे।

सभी बच्चे ये सुनकर खुश हो गए और अपने-अपने घर के गमलों में बीज लगा दिया। रोज सुबह-शाम समय पर पानी देना, खाद डालना शुरू कर दिया। कुछ ही दिनों बीजों से पौधे उगने लगे। सभी बच्चे अपने पौधे की अच्छी देखभाल कर रहे थे। राज्य में सिर्फ एक बच्चा ऐसा था, जिसके बीज से पौधा नहीं उगा था।

वह बच्चा इस बात से दुखी था कि उसका पौधा पनप नहीं रहा है। अन्य बच्चे उसका मजाक उड़ा रहे थे। 3 महीने बीत गए। सभी बच्चों के पौधों में फूल आना शुरू हो गए, लेकिन उस बच्चे के गमले में पौधा नहीं उगा।

बच्चा रोज सुबह-शाम पानी देता, खाद भी डालता, लेकिन पौधा नहीं उगा। इसी तरह 6 माह बीत गए। सभी बच्चे अपना-अपना गमला लेकर राज दरबार में पहुंच गए। जिस बच्चे का बीज नहीं उगा था, उसकी मां ने कहा कि अगर तुम्हार बीज नहीं उगा है तो भी तुम्हें यही गमला लेकर राजा के सामना जाना चाहिए।

बच्चा उदास था, लेकिन उसमें राजा के सामने सच बोलने का साहस था। इसीलिए वह ऐसा ही गमला लेकर राज दरबार पहुंच गया। राजा ने सभी बच्चों के गमले देखे।

अंत में वे उस बच्चे के पास पहुंचे, जिसके बीज से पौधा नहीं उगा था। बच्चे ने राजा को बताया कि मैंने पूरी ईमानदारी से कड़ी मेहनत की है, लेकिन ये बीज नहीं उगा। राजा ने सभी बच्चों से कहा कि मैंने आप लोगों को जो बीज दिए थे, वह सभी बीज खराब थे। उनसे पौधा उग ही नहीं सकता था।

राजा ने आगे कहा कि आप सभी ने मुझे धोखा देने के लिए अपना-अपना बीज बदल दिया है, सिर्फ इस एक बच्चे ने कोई छल-कपट नहीं किया और इसमें सच बोलने का साहत भी है। राजा वही बन सकता है, जिसमें सच बोलने की हिम्मत है और जो किसी लालच में छल-कपट नहीं करता है। इसीलिए मेरे राज्य का राजा यही बच्चा बनेगा, जिसके गमले में पौधा नहीं उगा है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Importance of Honesty and hard work, tips to get success, motivational story in hindi, inspirational story about success
Read More

0 Comments