Loading...

  • Monday January 24,2022

Afghanistan: Parwan प्रांत में Heavy Rain के बाद Flood का कहर, अब तक 45 की मौत

परवन। भारत के कई राज्यों में भारी बारिश ( Heavy Rain ) के बाद बाढ़ के कहर से लाखों लोग प्रभावित हैं, वहीं कई लोगों की जान जा चुकी है। भारत के अलावा पाकिस्तान ( Pakistan ), चीन ( China ), अफगानिस्तान ( Afghanistan ), श्रीलंका ( Sri Lanka ) आदि तमाम देशों में भी भारी बारिश का कहर देखने को मिल रहा है।

अफगानिस्तान के पार्वन प्रांत ( Afghanistan Parwan Province ) में भारी बारिश के बाद बाढ़ के कारण बुधवार की सुबह तक 45 लोगों की जान जा चुकी है। हजारों लोग इस प्राकृतिक आपदा ( Natural Disaster ) से प्रभावित हुए हैं। स्थानीय लोगों ने पीड़ितों के लिए तत्काल मदद की मांग की है। स्थानीय लोगों के मुताबिक, सरकार की ओर से अभी तक प्रभावित इलाकों में कोई सहायता दल नहीं भेजा गया है। इधर राष्ट्रपति अशरफ गनी ( Afghanistan President Ashraf Ghani ) ने राज्य मंत्रालय को इलाके में तुरंत सहायता मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं।

Afghanistan में धार्मिक प्रताड़ना के शिकार Hindus और Sikhs को America में मिलेगी शरण! संसद में प्रस्ताव पेश

परवन स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सफीउल्लाह वारस्ता ( Safiullah Warasta ) के हवाले से टोलो न्यूज ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि बाढ़ के कारण अब तक दर्जनों लोग घायल हुए हैं। 80 घायलों को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इनमें से पांच की हालत बेहद गंभीर बनी हुई है। इन पांचों को और भी अधिक बेहतर इलाज के लिए राजधानी काबुल ( Kabul ) स्थित अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया है।

राष्ट्रपति ने तुरंत सहायता पहुंचाने के दिए निर्देश

रिपोर्ट में आगे स्थानीय अधिकारियों के हवाले से बताया गया है कि पीड़ितों में ज्यादातर महिलाएं और बच्चे शामिल हैं। प्रांत की राजधानी चारीकर में दर्जनों घर और वाहन बाढ़ की चपेट में आने से नष्ट हो गए हैं। स्थानीय लोगों ने कहा कि अभी तक कोई भी सहायता मुहैया नहीं कराई गई है।

Afghanistan: स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले राजधानी Kabul में रॉकेट से हमला, 10 घायल

इसका संज्ञान लेते हुए राष्ट्रपति अशरफ गनी ने फौरन पीड़ितों तक सहायता पहुंचाने के निर्देश दिए हैं। राष्ट्रपति की ओर से एक बयान जारी किया गया है, जिसमें आपदा प्रबंधन और मानवीय मामलों के राज्य मंत्रालय को निर्देश दिया गया है कि वे बाढ़ पीड़ितों को आपातकालीन सहायता प्रदान करें।

दूसरी तरफ उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ( Amrullah Saleh ) के हवाले से टोलो न्यूज ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि बाढ़ के कारण बड़ी मात्रा में नुकसान की वजह से प्रांतीय स्तर पर आपदा प्रबंधन इस तक नहीं पहुंच सका। काबुल में सभी संबंधित सरकारी विभागों को राज्य आपदा प्रबंधन मंत्रालय के साथ समन्वय में मदद करने के लिए निर्देशित कर दिया गया है।

Read More

0 Comments